For the best experience, open
https://m.merisaheli.com
on your mobile browser.
Advertisement

Personal Problems: डिलीवरी के बाद से योनि में ढीलापन महसूस हो रहा है (Vaginal Laxity And Child Birth)

10:01 AM Feb 28, 2020 IST | Aneeta Singh
personal problems  डिलीवरी के बाद से योनि में ढीलापन महसूस हो रहा है  vaginal laxity and child birth
Advertisement
मेरी उम्र 35 वर्ष है. मेरे दो बच्चे हैं और दोनों बच्चों की नॉर्मल डिलीवरी हुई थी. कुछ दिनों से मुझे लग रहा है कि मेरी योनि से कुछ बाहर आ रहा है. मुझे योनि में ढीलापन भी महसूस होता है और पेशाब करने में परेशानी होती है.
– रीमा कपूर, दिल्ली.

आपकी समस्या से लगता है कि आपकी योनि की मांसपेशियों में ढीलापन आने से यूटेरस अपनी जगह से हिल गया है. ऐसा अक्सर नॉर्मल डिलीवरी के बाद होता है, ख़ासतौर पर तब, जब बच्चा बड़े आकार का हो या वैक्यूम की मदद से हुआ हो. ऐसे में यूटेरस योनि में या योनि से बाहर आ जाता है. कभी-कभी तो ज़्यादा कफ़ होने से ब्लैडर व रेक्टम भी बाहर आ जाता है, क्योंकि उन्हें सपोर्ट नहीं मिल पाता. इसका इलाज सर्जरी से ही संभव है. इसके लिए योनि या लेप्रोस्कोपिक सर्जरी द्वारा यूटेरस को कस दिया जाता है. यदि मरीज़ की उम्र ज़्यादा है तो यूटेरस को ही निकाल दिया जाता है.

Advertisement

यह भी पढ़ें: Personal Problems: एक्टॉपिक प्रेग्नेंसी क्या होती है? (What Is Ectopic Pregnancy?)

Vaginal Laxity
मेरी उम्र 44 वर्ष है. मुझे 2 साल से अत्यधिक रक्तस्राव हो रहा है, जिसके कारण मुझे बहुत ज़्यादा थकान महसूस होती है. मेरी रिपोर्ट भी नॉर्मल है. डॉक्टर का कहना है कि मेनोपॉज़ के दौरान अक्सर ऐसा हो जाता है, लेकिन मेरे लिए अब इस परेशानी को सहना मुश्किल हो गया है. कृपया, उपाय बताएं.
– माधवी कंज़रकर, नागपुर .

आपकी समस्या को देखकर लगता है कि आपको डिस़फंक्शनल यूटेराइन ब्लीडिंग है. इस स्थिति में सोनोग्राफ़ी में यूटेरस व ओवरीज़ नॉर्मल नज़र आते हैं, लेकिन मरीज़ को रक्तस्राव होता रहता है. इस प्रॉब्लम के लिए आप गायनाकोलॉजिस्ट से बात करके दवाएं ले सकती हैं. यदि आप परमानेंट सोल्यूशन चाहती हैं, तो आपके पास दो विकल्प हैं, यूटेरस में हार्मोन इंटरायूटेराइन डिवाइस इंसर्ट करवा लें. यह कॉपर टी की तरह ही होता है. इससे अगले 5 साल के लिए आपका रक्स्राव रुक जाएगा. दूसरा विकल्प है- यूटेराइन बलून एब्लेशन, जिसमें एक बलून को ट्यूब में लगाकर योनि मार्ग द्वारा अंदर डाला जाता है. बलून में गर्म पानी भरकर कंप्यूटर द्वारा यूटेरस की दीवारों को नष्ट किया जाता है. लेकिन यह प्रक्रिया वेे महिलाएं ही करवा सकती हैं, जो भविष्य में मां नहीं बनना चाहतीं.

Advertisement

यह भी पढ़ें: Personal Problems: क्या गर्भनिरोधक गोलियों से वज़न बढ़ता है? (Do Contraceptive Pills Cause Weight Gain?)

Dr. Rajshree Kumar

डॉ. राजश्री कुमार
स्त्रीरोग व कैंसर विशेषज्ञ
rajshree.gynoncology@gmail.com

हेल्थ से जुड़ी और जानकारी के लिए हमारा ऐप इंस्टॉल करें: Ayurvedic Home Remedies

Advertisement
Tags :
×

.