For the best experience, open
https://m.merisaheli.com
on your mobile browser.
Advertisement

पेटदर्द, गैस-एसिडिटी, कब्ज़ पेट की हर समस्या के लिए 50+ होम रेमेडीज़ (50+ Effective Home remedies for indigestion, gas, acidity, constipation and other stomach problems)

04:27 PM Jul 06, 2022 IST | Pratibha Tiwari
पेटदर्द  गैस एसिडिटी  कब्ज़ पेट की हर समस्या के लिए 50  होम रेमेडीज़  50  effective home remedies for indigestion  gas  acidity   constipation and other stomach problems
Advertisement
Advertisement

खान-पान में लापरवाही, मौसम में बदलाव या कभी-कभी बिना वजह ही पेट गड़बड़ा जाता है. गैस-एसिडिटी, लूज़ मोशन, पेटदर्द, उल्टी आदि परेशानी होने लगती है. ऐसे में डॉक्टर की दवा लेनी ज़रूरी है, लेकिन उससे पहले ये घरेलू नुस्ख़े भी आज़मा लें, जो आपको फौरन राहत देंगे.

पेटदर्द

Advertisement

  • मेथी दाने को हल्का सा भूनकर पीस लें. इसे गर्म पानी के साथ लें.
  • पुदीने के पत्ते को चबाएं या फिर 4 से 5 पत्तियों को एक कप पानी के साथ उबाल लें. पानी को गुनगुना होने दें और फिर सेवन करें.
  • 1 ग्राम सेंधा नमक और 2 ग्राम अजमोद का चूर्ण खाने से पेटदर्द से तुरंत आराम मिलता है.
  • नींबू के रस में काला नमक और आधा कप पानी मिलाकर पीएं. कुछ ही देर में पेट दर्द से आराम मिल जाएगा.
  • बेकिंग सोड़ा और नींबू को पानी में मिलाकर पीने से पेटदर्द से राहत मिलती है.
  • एक ग्लास हल्के गर्म पानी में एक चुटकी हींग डालें और उसे अच्छी तरह से मिला लें. दिन में 2-3 बार इसे पीएं. अगर आप चाहें तो इस मिश्रण में स्वादानुसार सेंधा नमक भी डाल सकते हैं. यह पेट दर्द और गैस की समस्या के लिए बहुत फायदेमंद है.
  • मेथी का चूर्ण दही में मिलाकर खाने से पेट की मरोड़ का शमन होता है या मेथी की सब्ज़ी के रस में काला अंगूर मिलाकर पीने से भी मरोड़ की शिकायत दूर हो जाती है.
  • एक कप पानी में सूखे पुदीने को डालकर उसे 10 मिनट तक उबालें और फिर उस मिश्रण को छानकर उसमें थोड़ा शहद मिला लें. अब इस मिश्रण को दिनभर चाय की तरह 2-3 कम पीएं.
  • थोड़ा हींग, आधा चम्मच अजवायन और आधा चम्मच काला नमक का चूर्ण बना लें, गुनगुने पानी के साथ इसका सेवन करें.
  • 1 छोटा चम्मच लहसुन का रस और 3 छोटा चम्मच सादा पानी एक साथ मिलाकर 1 हफ्ते तक रोज़ सुबह या शाम खाने के बाद पीना चाहिए. इसके सेवन से अक्सर रहनेवाले गैस तथा पेट के दर्द में बहुत जल्दी लाभ मिलता है.

गैस- एसिडिटी

  • एक चम्मच अजवायन में चौथाई चम्मच नींबू का रस मिलाएं और इसे चाट लें. ऐसा करने से गैस में जल्द ही राहत मिलेगी.
  • अदरक के रस में थोड़ा-सा सेंधा नमक और भुना हुआ जीरा पाउडर मिलाकर मिश्रण बनाएं और इसका सेवन करें. शीघ्र लाभ के लिए इस मिश्रण के ऊपर आधा ग्लास छाछ भी पीएं.
  • एक ग्लास गुनगुने दूध में 2 चम्मच एरंडी का तेल मिलाकर पीएं. ये गैस की समस्या में तुरंत राहत देगा.
  • चोकर सहित आटे की रोटी खाने से एसिडिटी और गैस में फायदा होता है.
  • एक ग्लास गन्ने के रस को गर्म करके उसमें थोड़ा-सा नींबू का रस और सेंधा नमक मिलाएं. इसे दिन में कम से कम 2 बार पीएं. ऐसा करने से भी एसिडिटी और गैस से राहत मिलती है.
  • दालचीनी को गरम पानी और थोड़े से शहद के साथ मिलाकर इसका सेवन करें. इससे गैस की समस्या दूर होती है.
  • नींबू के रस में बेकिंग सोडा मिलाकर पीने से भी राहत मिलती है.
  • गैस और एसिडिटी से छुटकारा पाने के लिए सौंफ का सेवन करें. आप इसे या तो चबाकर खा सकते हैं या फिर इसे पानी में उबालकर पी सकते हैं.
  • सुबह दो केले खाकर एक कप दूध पीने से कुछ ही दिनों मेें एसिडिटी से आराम मिलता है.
  • संतरे के रस में थोड़ा भुना हुआ जीरा और पिसा हुआ सेेंधा नमक मिलाकर पीने से आराम मिलता है.
  • दिन में दो-तीन बार अदरक के रस में पुदीने का रस बराबर मात्रा में मिलाकर पीने से लाभ होता है.

लूज़ मोशन यानी दस्त

  • एक चम्मच सोंठ पाउडर को दूध में मिलाकर पीने से आराम मिलता है.
  • लूज़ मोशन में दही का इस्तेमाल काफी फायदेमंद रहता है. दही में मौजूद बैक्टीरिया से पेट जल्दी ठीक होता है. साथ ही ये पेट को ठंडा भी
    रखता है.
  • केले का सेवन भी बार-बार हो रहे दस्त में आराम देता है. इसमें मौजूद पेक्टिन पेट को बांधने का काम करता है.
  • सेब भी दस्त में फायदेमंद होता है.
  • अगर आपको लगातार दस्त हो रहा हो, तो एक चम्मच जीरा चबा लें. जीरा चबाकर पानी पी लेने से दस्त बहुत जल्दी रुक जाता है.
  • लूज मोशन को कंट्रोल करने के लिए जीरे का पानी भी फायदेमंद है. करीब एक लीटर पानी में एक चम्मच जीरा डालें और उसे आधा होने तक उबाल लें. ठंडा होने पर इस पानी का सेवन करें.
  • एक कप पानी में 1 छोटा चम्मच दालचीनी पाउडर और आधा चम्मच ताज़ा पिसा हुआ अदरक मिलाकर उबालें. इसे ढंककर 30 मिनट के लिए छोड़ दे्ं. इस चाय को दिन में 2 या 3 बार पीएं.
  • दिन भर में 1 से 2 गिलास ताज़ा अनार का रस पीएं.
  • एक कप पानी में एक मुट्ठी सूखे अनार के छिलके डालें. उनको उबालकर 15 मिनट के लिए ऐसे ही छोड़ दें और छानकर दिन भर में कम मात्रा में इस पानी को पीते रहें.
  • ज्यादा दस्त होने की वजह से मरीज को बार-बार प्यास लगने लगती है. ऐसी स्थिति में 1 लीटर पानी में 1 चम्मच सूखा धनिया उबालें. जब आधा पानी रह जाए तो पानी को छानकर ठण्डा कर लें. इसे थोड़ी-थोड़ी मात्रा में रोगी को पिलाएं.

कब्ज़

  • लगभग 8-10 ग्राम मुनक्के रात को पानी में भिगा दें. सुबह इसके बीज निकालकर दूध में उबाल कर खाएं, और दूध पी लें.
  • रात में सोते समय एक गिलास गर्म दूध में 1-2 चम्मच एरण्ड का तेल डालकर पीएं.
  • आधा कप बेल का गूदा और एक चम्मच गुड़ का सेवन शाम को भोजन से पहले से करें.
  • जीरे और अजवायन को धीमी आंच पर भून कर पीस लें. इसमें काला नमक डालकर तीनों को समान मात्रा में मिला कर डब्बे में रख लें. रोज़ आधा चम्मच की मात्रा में गुनगुने पानी के साथ सेवन करें.
  • रोज 2 चम्मच गुड़ गर्म दूध के साथ लें. इससे कब्ज़ की शिकायत दूर होगी.
  • दूध में सूखे अंजीर को उबाल कर खाएं और दूध को पी लें.
  • रात में सोने से पहले एक चम्मच त्रिफला चूर्ण गर्म पानी के साथ लें.
  • सुबह उठकर नींबू के रस में काला नमक मिलाकर सेवन करें.
  • एक गिलास गर्म दूध में दो चम्मच देसी घी डालकर सोने से पहले पीएं.
  • रात के भोजन में पपीता का सेवन करें.
  • दस ग्राम इसबगोल की भूसी को सुबह-शाम पानी के साथ लें.
  • सोने से पहले गुनगुने पानी के साथ 3 ग्राम सौंफ का चूर्ण लेने से कब्ज़ में फ़ायदा होता है.

पेट में जलन

  • अजवायन और नमक पीसकर उसकी फंकी लेने से पेट की जलन का शमन होता है.
  • धनिया और शक्कर का शर्बत बनाकर पीने से भी पेट की जलन दूर होती है.
  • अजवायन को तवे पर भूनकर उसके समभाग में सेंधा नमक मिलाकर चूर्ण बना लें. 3 ग्राम की मात्रा में यह चूर्ण गर्म पानी के साथ लेने से पेट की जलन मिटती है.
  • धनिया और जीरा 10-10 ग्राम लेकर उन्हें कूट लीजिए और 250 मि.ली. पानी में रातभर भिगोकर रख दीजिए. सुबह उसे मसल-छानकर तथा उसमें शक्कर डालकर कुछ दिन पीने से पेट की जलन शांत होती है.

अपच

  • केवल गर्म पानी 3-3 घंटे पर पीने से अपच से राहत मिलेगी.
  • अनारदाने का चूर्ण आधा टेबलस्पून दिन में तीन बार खाने से भी अपच मिटता है.
  • मुनक्का, नमक व काली मिर्च सबको मिलाकर गर्म करके खाने से अपच में आराम मिलता है और भूख बढ़ती है.
  • 2 लौंग, 2 काली मिर्च, आधा चम्मच धनिया, आधा चम्मच जीरा, चुटकी भर नमक व हल्दी मिलाकर 4 कप पानी में डालकर उबालें. 2 कप बचने पर उस काढ़े को आधे कप की मात्रा में दिन में 4 बार पीएं.
  • कब्ज़ के कारण अपच की शिकायत हो, तो 2 चम्मच ईसबगोल लेकर पानी में मिलाकर पीएं.

उल्टी होने पर आज़माएं ये घरेलू नुस्ख़े

  • अजवायन तथा लौंग के फूलों को पानी के साथ पीसकर शहद के साथ चाटने से उल्टी बंद हो जाती है.
  • बिजौरा नींबू को बीच से काटकर उस पर काली मिर्च का चूर्ण और सेंधा नमक डालकर चूसने से उल्टी बंद हो जाती है.
  • अदरक का 10 ग्राम रस और इतना ही प्याज़ का रस मिलाकर पीने से उल्टी में राहत मिलती है.
  • शहद में तुलसी के रस को मिलाकर एक चम्मच पीने से वमन पर काबू होगा.
  • 6 ग्राम पुदीना, 2 ग्राम सेंधा नमक पीसकर ठंडे पानी में घोलकर पीने से उल्टी में शीघ्र लाभ होता है.
  • नारंगी के छिलकों को सुखाकर, पीसकर शहद के साथ चाटने से उल्टी बंद हो जाती है.
  • एक नींबू का रस और एक चम्मच चीनी को दो चम्मच पानी में मिलाकर एक-एक घंटे मेें पीने से उल्टी रुक जाएगी.
Advertisement
Tags :
×

.